Monday, 21 October 2013

The New dawn is coming, Ray man! Looking Ahead Light,-A beautiful lyrics in Hindi


नयी भोर है आने वाली

The New dawn is coming, Ray man! Looking Ahead Light,

आज हर हर कोई पश्चिम सभ्यता को अपनाने की अंधी होड़ में लगा है इस होड़ में आगे निकलने को वह इस कदर मन्त्र मुग्ध हो चुका है की उसे सही- गलत का ज्ञान पूर्णत: मिट गया है। और इस कारण चारो ओर अनाचार फेल गया है व्यक्ति की moral value इतनी गिर गई है कि वह इस कदर पतन के मार्ग पर बढ़ गया है जहाँ उसे अपने उत्थान की कोई नयी राह नजर ही नहीं आ रही है वो खुद को इस कदर अधेरे में घिरा पा रहा है जहाँ से वो स्वयं को निकालने के लिए छटपटा रहा है..

ऐसे में कवि शचीन्द्र भटनागर जी अपनी कविता द्वारा बड़े ही आत्मिक उत्साह के साथ सभी हारे हुए लोगों को एक नयी किरण की आस बढ़वाते हैं और कहते है की “नयी भोर है आने वाली, मन रे ! सम्मुख देख उजाला” ।

कवि शचीन्द्र भटनागर जी शांति कुंज, हरिद्वार की मासिक पत्रिका “अखंड ज्योति” के लिए अपनी रचनाये लिखते हैं । “नयी भोर है आने वाली, मन रे ! सम्मुख देख उजाला” भी नवंबर- 2009 में छपी है । ये कविता भटके हुए मनुष्यों को नयी आस बढाती है और एक राह दिखाती है बिना निराशा के जीवन में आगे बढ़ने की।

मैं इस अनमोल कविता को सरल English meaning के साथ आप सब के बीच share कर रही हूँ इस उमीद के साथ करती हूँ की आप सब को पसंद आएगी।
 

     मन रे ! सम्मुख देख उजाला ।
            Ray man! Looking Ahead Light,
        घाना अँधेरा देख व्यर्थ ही भ्रम तुमने है पाला ।
You brought the illusion is often unnecessarily dark opaque
              मन रे ! सम्मुख देख उजाला ।
                 Ray man! Looking Ahead Light,
           अंधियारी जाने वाली है,
                  The darkness is going to go,
      नयी भोर आने वाली है,
                    New dawn is coming,
       पूरब से लाली फूटेगी,
       Carnation comes from the East,
       सारी धरती सुख लूटेगी,
       Whole earth will get happiness,
             गगन गुलाबी लिए सवेरा निश्चय आने वाला ।
            The morning sky pink, definitely to come
     मन रे ! सम्मुख देख उजाला ।
        Ray man! Looking Ahead Light
     जिनने सुख – सुविधाएँ छोड़ीं,
      Who’s left happiness and amenities,
                     जनहित से इच्छाएं जोड़ीं,
                   Added of public wishes,
      सुख – संतोष उन्होंने पाया,
                 Well - he found satisfaction,
                    यश पाया, सम्मान कमाया,
                 Found fame, honors earned,
            माँग समय की देख उन्होंने खुद को वैसा ढाला।
         See the demand of the time, so he cast himself.
                      मन रे ! सम्मुख देख उजाला ।
                    Ray man! Looking Ahead Light.
                      हम अपने सद्गुण विकसाएं,
                      We created our virtue,
                       जीवन को उत्कृष्ट बनाएँ,
                       Create excellent life,
                       मन इतने निर्मल हो जाएँ,
                      Become so serene mind;
                        जिससे सभी प्रेरणा पाएँ,
                       Get all the inspiration,
                ऐसा वातावरण बने जो कटे कलुष का जाला।
                    Create such an atmosphere,
              which severed the tentacles of darkness.
                      मन रे ! सम्मुख देख उजाला ।
                    Ray man! Looking Ahead Light.
                        गुरु के निर्देशों को मानें,
                 According to the master's instructions,
                        अपनी क्षमताएँ पहचानें,
                      Identify your capabilities,
                        त्यागें असमंजस – दुविधाएँ,
                     Discard confusion - dilemmas,
                        भूलें सारी सुख – सुविधाएँ,
                       Forget all the amenities;
               जिससे कोई नहीं काल के मुख का बने निवाला। 
              Whereby, no one became a morsel of time.                        मन रे ! सम्मुख देख उजाला।
                  Ray man! Looking Ahead Light.
                       

-शचीन्द्र भटनागर